||धर्म प्रेमी सज्जनों को एक अहम् जानकारी || आज रात्रि 9 बजे फेसबुक लाइव में, कुरान कलामुल्लाह {ईश्वरीय ज्ञान} नहीं है इसका प्रमाण इन्ही लोगों की किताब से प्रमानित करूँगा

https://www.facebook.com/MahendraPalArya/videos/267018820824254/ बंधुओं परमात्मा =वेद= धर्म= और राष्ट्र =यह एक दुसरे के पूरक हैं | एक दुसरे से अलग नहीं हो सकता | यही कारण है की यह मानव मात्र के

|| ऋषि दयानन्द का परिचय ही वैदिक सिद्धान्त है || सृष्टि के प्रथम से विशेष कर दो हिस्सों में बटे हैं, कारण पक्ष दो ही है सत्य असत्य, धर्म अधर्म,

|| एक अहम् वैदिक मान्यता की जानकारी|| कल मेरे व्हाट्स आप में आचार्य विष्णु मित्र जी का लेख किसीने भेजा था | जिस लेख में 4=5 स्थानों पर सिद्धान्त विरूद्ध

वेद ही ईश्वरीय ज्ञान क्यों और कैसे ? ज्वाला पुर बानप्रस्थ आश्रम में बोलते हुए कल कई बार लोगों ने सवाल किया वेद ईश्वरीय ज्ञान क्यों और कैसे ? जबकि

https://www.youtube.com/watch?v=Sctwhn5pCDM&feature=youtu.be&fbclid=IwAR0n2NNvO65xKObgtXEg0hQtl4zUeU_iWv9iseXeoOc0ZAMsVSWVmUoN2g4   आर्य समाजियों और विशेष कर आर्य समाज के अधिकारीयों इस विडिओ को ध्यान से सुनिए | जो आर्य समाजी रामदेव को आर्य समाजी मानते हैं अथवा हिन्हू कहलाने