नमस्ते जी पण्डित महेन्द्रपाल आर्य के मार्गदर्शन से प्रवृत वैदिक मिशनरी की कक्षा में आए हुए आदरणीय सिकन्दर जी के साथ वैदिक सिद्धान्तो पर विचार विमर्श के पश्चात ऋषिकृत अमर

अल्लाह की कलाम में झूठ को भी सच कहा गया || यह प्रमाण इबने कसीर हिन्दी भाष्य पेज 312, पारा 23,सूरा 37,सफ्फत आयात 88,89,90,91,92,93,94,95,96,97,98,का सन्दर्भ =देखें अल्लाह के नबी बीमार

कुरान में देखें अल्लाह का कार्य || यह प्रमाण इबने कसीर हिन्दीभाष्य पेज 309,310,पारा23,सूरा37,साफ्फात आयात 71,72,73,74, का सन्दर्भ = इन आयातों में अल्लाह के न मानने वालों को किस प्रकार

इन सवालों का ज़वाब हैं अल्लाह के पास ? यह प्रमाण इबने कसीर हिन्दी भाष्य पेज 280 पारा 23,सूरा 36,यासीन आयात 55,56,57,58, का सन्दर्भ = यहाँ जन्नतियों की बातें की

मनुस्मृति का जलाने वाला अग्निवेश आर्यसमाज के कैसे ? ऋषि दयानन्द जी के विचारों की हत्या करने वाले अग्निवेश आर्यसमाज के कैसे ? मेरा सवाल उन लोगों से है जो

ईश्वर अल्लाह एक नहीं है का प्रमाण कुरान से || यह प्रमाण इबने कसीर हिन्दी भाष्य पेज 279, परा 23,सूरा 36 यासीन आयात 51,52,53,54, का संदर्भ = यहाँ अल्लाह ने