articles

articles

धर्म को लोगों ने जाना ही नही | धर्म किसी व्यक्ति के बनाये नहीं,सूर्य धरती आकाश सागर नदियां जैसा ईश्वर अधीन है ठीक धर्म भी वैसा ही है | ईसाई,इस्लाम,जैनी

कौन कहता है अल्लाह निराकार है?देखें कुरान || दुनिया के लोग मानते हैं, अल्लाह निराकार है, यह बिलकुल अनभिज्ञता वाली बात है जो लोग कुरान को नहीं जानते वही लोग

सरकार से मेरी अपील || कल 23 /11 /20 को आप लोगों ने विभन्न TV चेनलों पर देखा और सुना है की बिहार से चुने गये MLA = AIMIM =

मानव समाज इस पर चिन्तन क्यों नही करते ? परमात्मा की सृष्टि में, न मालूम कितने ही प्राणी हैं,सब अपने अपने कर्मों के अनुसार, ही योनी को प्राप्त किया है

|| हमारा लक्ष्य वैदिक संस्कृति को जन जन तक पहुंचाना || आज मै अपने साथ जुड़े सभी साथी और मित्र मण्डली को अपने पोस्ट के माध्यम से एक विशेष जानकारी

|| भारत ऋषियों का है, इतिहास शाक्षी है || अभी मात्र भारत में ही नही सम्पूर्ण धरती पर, एक उहापोह का वातावरण बनगया था भारत में, योग और उसका विरोध

रहाराष्ट्र के सभी राजनीती पार्टी को सबक सिखाने का मौका || सम्पूर्ण भारत वासियों की ओर से सुप्रीम कोर्ट का आभार || धन्यवाद आन्दोलन कारियों को भी | विशेष आग्रह

क्या इसे आप मानवता कहेंगे ? मानव शब्द सुनते ही मस्तिष्क में विचार दौड़ने लगता है, इसका मूल कारण है मानव के साथ जुड़ा है धर्म और अधर्म का बोध,

यह है अल्लाह की कलाम जो विज्ञान विरुद्ध है || यह सूरा 11 हूद आयात 6,7, का अर्थ :-जमीन पर चलने फिरने वाले जितने भी जानदार हैं सब की रोजियाँ

क्या हम ने सत्य को कभी जाना है ? हम भारत वासियों ने सत्य को स्वीकार ही कहाँ किया ? हमें जो पाठ गलत पढाया गया आज तक उसी को