इस्लाम वालों को जन्नत ही जाने दिया जाय |

||इस्लाम वालों को जन्नत ही जाने दिया जाय ||
प्राय: दुनिया वालों को मालूम है,की इस्लाम के मानने वाले विश्वास और अकीदा रखते है कुरान और हदीसों पर | इन किताबों में अधिक चर्चा है परलोक की, अर्थात मौत की बाद वाली जिन्दगी की |

दुनिया में रहने का उपदेश कम है, और जन्नत {स्वर्ग} और जहन्नुम {नर्क} का उपदेश ज्यादा है | दुनिया में अगर जीना है तो इस्लाम के लिए जीना है इस्लाम के लिए मरना और मिटना है, जीवन का लक्ष्य मात्र कुरान और हदीसों के मुताबिक अल्लाह को पाना है, और अल्लाह को पाने के लिए अल्लाह के रास्ते पर चलना है |

अब जानना होगा की अल्लाह का रास्ता क्या है और कौनसा है ? अल्लाह का रास्ता है एक मात्र इस्लाम को फैलाना, इस कार्य के लिए अपना सब कुछ लुटा देना | अर्थात जीना भी इस्लाम के लिए और मरना भी इस्लाम के लिए |

अगर अल्लाह के लिए जीना है, तो क्या करनाहोगा ? सबसे ज्यादा पसंदीदा काम अल्लाह के नजदीक >का लाल जिहादो फी सबीलिल्लाह < अर्थात अल्लाह के रास्ते में जिहाद करना | इससे बढ़ कर अल्लाह के नजदीक कोई और सही काम नहीं है | यह है इस्लामिक शिक्षा =इस्लाम का मकसद इस में मारे जाएँ तो जन्नतुल फिरदौस = जो सबसे मर्यादा पूर्ण स्थान मुसलमानों के लिए | मेरा कहना यह है की अगर यही अल्लाह का हुक्म है और मुसलमान इसपर अमल करना चाहते हैं, जो आये दिन काफिरों को मार रहे हैं, किस लिए जन्नत जाने के लिए | इन इसलाम के मानने वालों को जन्नत ही भेज दिया जाय, जन्नत यह जायेंगे मरने के बाद जीते में नहीं | सम्पूर्ण विश्ववासियों को चाहिए सभी इस्लाम के मानने वालों की इच्छा पूर्ति जरुर करें इन्हें मौत के घाट उतार कर जल्द से जल्द सीधा अल्लाह के प्यारा बना ही देना चाहिए | यानि इनका मकसद की पूर्ति यही है इन्हें दुनिया से हटा कर अल्लाह के पास बसा दिया जाय, यह मरेंगे तो जाएँगे और यह चाहते भी यही हैं जन्नत जाना | तो इन्हें जन्नती बना दे जितने भी इस्लाम का नाम लेने वाले हैं उन्हें अल्लाह के पास भेज दें | वहां जा कर यह खूब पवित्र शराब, कबाब , और शबाब का आनंद लें जो दुनिया में इन्हें नहीं मिलती, और यह इन्ही सामान को पाने के लिए दूसरों को क़त्ल कर रहे हैं | तो दुनिया वासियीं को चाहिए इन लोगों की इच्छा पूर्ति आप सब मिलकर करें इन्हें भेज दें जन्नत जो यह चाहते हैं | 17 /2/19