कश्मीर में सैनिकों पर हमला कुरानी हुक्म है

|| मुसलमानों द्वारा सेना पर हमला कुरानी हुक्म ||

कश्मीर में हमारे देश के सेना अपनी जान पर खेल कर उन कश्मीरी मुसलमानों की सुरक्षा कर रहे हैं | क्या उन कश्मीरी मुसलमान हमारी सेना को अपना मुहाफ़िज़ माना है कभी ?   कुरानी अल्लाह उन मुसलमानों को उपदेश क्या दिया है उसे आप लोग खुद कुरान से ही पढ़ लें | मैं थोडा नमूना प्रस्तुत कर रहा हूँ कुरान की कई जगहों से, और भी अनेक जगह पर है इस प्रकार की बातें |

अल्लाह ने साफ कहा है,की अगरचे काफ़िर बुरा मानें, कोई परवाह नहीं खुदा का दीन वही है जो खुदा ने अपने रसूल को दी, सच्चे दीन यही है जो तमाम दीनों पर ग़ालिब {हावी }करे अगर मुशरेकीन {शिर्क करने वालों } इसे बुरा मानें कोई बात नहीं है |

अल्लाह ने यहाँ मुसलमानों को उपदेश दिया है एक इस्लाम को छोड़ दूसरा कोई दीन नहीं है क्यों की यही तो अल्लाह ने अपने रसूल को यही दीने हक़ दिया है | तुम्हें चाहिए की और जितने भी तमाम दीनें है उनसब पर तुम हावी रहो |

कश्मीरी मुसलमानों का एक ही लक्ष्य है इसलाम का विस्तार वह यह नहीं देखते की हमारी देश की सेना हमारे लिए जान दे रहे हैं ? उनके दिमाग में सिर्फ और सिर्फ कुरानी उपदेश ही है इससे बाहर और कुछ नहीं | वह यह जानते हैं की भारतीय सेना काफ़िर हैं मुशरिक {शिर्क} करने वाले है इनको हलाक {ख़तम} करना ही इसलामियों का लक्ष्य है | यही तो कारण बना की उन्ही सैनिकों को यह पत्थरों घात कर रहे हैं | सबसे बड़ी बात उसमें यह भी है की उन्हें यह भी भरोसा है की सरकार या CM महबूबा मुफ़्ती का संरक्षण हमें या हम लोगों को प्राप्त है आदि |

सिर्फ इतना ही नहीं शबनम लोन जैसी सुप्रीम कोर्ट की वकील कह रही हैं, वह बच्चे हैं नादाँन हैं | मेरा सवाल ऐसे बुद्धि जीवी कहलाने वालों से है क्या जिन्हें यह बच्चे कह रही हैं उन्हें अपने घर में यही संस्कार दिया नहीं गया की काफ़िर हमारे दोस्त नहीं है उन काफिरों से हमें दोस्ती नहीं रखना चाहिए ? क्या यही उनका मूलमंत्र नहीं हैं जिसपर वह हमारे सैनिकों को मार रहे हैं ? BJP को फ़ौरन महबूबा मुफ़्ती से अपना समर्थन वापस लेना चाहिए, और महबूबा मुफ़्ती पर राष्ट्र द्रोह का मामला दर्ज करवा कर उन्हें जेल भेज देना चाहिए | जो अपना प्राण देकर हमारी रक्षा देश के शत्रुओं से हमें बचा रहे हैं, हमारे ऐसे जाँबाज सैनिकों पर FIR कर क्या बताना चाहती है देश वासियों को ? जिनके दिल और दिमाग में पाकिस्तान बसा है | इन्ही महबूबा के पिता मुफ़्ती सईद ने 5 आतंक वादी को छोड़ा था | जब की यही महबूबा की बहन रुविया का किडनप हुवा भी नहीं था घर वाले ही उसे छुपा कर रखे थे उसके एवज में 5 आतंकवादी को छोड़ा गया था | क्या BJP के लोग इसे भूल गये देश की जनता को जवाब चाहिए जवाब दे मोदी जी और अमित शाह जी |

هُوَ الَّذِي أَرْسَلَ رَسُولَهُ بِالْهُدَىٰ وَدِينِ الْحَقِّ لِيُظْهِرَهُ عَلَى الدِّينِ كُلِّهِ وَلَوْ كَرِهَ الْمُشْرِكُونَ [٩:٣٣]

अगरचे कुफ्फ़ार बुरा माना करें वही तो (वह ख़ुदा) है कि जिसने अपने रसूल (मोहम्मद) को हिदायत और सच्चे दीन के साथ ( मबऊस करके) भेजता कि उसको तमाम दीनो पर ग़ालिब करे अगरचे मुशरेकीन बुरा माना करे | सूरा तौबा {9 } आयत 33

هُوَ الَّذِي أَرْسَلَ رَسُولَهُ بِالْهُدَىٰ وَدِينِ الْحَقِّ لِيُظْهِرَهُ عَلَى الدِّينِ كُلِّهِ ۚ وَكَفَىٰ بِاللَّهِ شَهِيدًا [٤٨:٢٨]

वह वही तो है जिसने अपने रसूल को हिदायत और सच्चा दीन देकर भेजा ताकि उसको तमाम दीनों पर ग़ालिब रखे और गवाही के लिए तो बस ख़ुदा ही काफ़ी है | सूरा फतह {48 }आयत 28

هُوَ الَّذِي أَرْسَلَ رَسُولَهُ بِالْهُدَىٰ وَدِينِ الْحَقِّ لِيُظْهِرَهُ عَلَى الدِّينِ كُلِّهِ وَلَوْ كَرِهَ الْمُشْرِكُونَ [٦١:٩]

वह वही है जिसने अपने रसूल को हिदायत और सच्चे दीन के साथ भेजा ताकि उसे और तमाम दीनों पर ग़ालिब करे अगरचे मुशरेकीन बुरा ही (क्यों न) माने | सूरा अस साफ्फ़ {61 } आयत 9

أُولَٰئِكَ الَّذِينَ اشْتَرَوُا الضَّلَالَةَ بِالْهُدَىٰ فَمَا رَبِحَت تِّجَارَتُهُمْ وَمَا كَانُوا مُهْتَدِينَ [٢:١٦]

यही वह लोग हैं जिन्होंने हिदायत के बदले गुमराही ख़रीद ली, फिर न उनकी तिजारत ही ने कुछ नफ़ा दिया और न उन लोगों ने हिदायत ही पाई | सूरा बकर {2} आयत 16

أُولَٰئِكَ الَّذِينَ اشْتَرَوُا الضَّلَالَةَ بِالْهُدَىٰ وَالْعَذَابَ بِالْمَغْفِرَةِ ۚ فَمَا أَصْبَرَهُمْ عَلَى النَّارِ [٢:١٧٥]

यही लोग वह हैं जिन्होंने हिदायत के बदले गुमराही मोल ली और बख्यिय (ख़ुदा) के बदले अज़ाब पस वह लोग दोज़ख़ की आग के क्योंकर बरदाश्त करेंगे | सूरा बकर {2 } आयत 175

 

कुरानी हुक्म ही है इस्लाम को छोड़ कोई और धर्म ही नहीं है, इसपर अमल करना इस्लाम वालों के लिए परम कर्तव्य है जिस कारण भारतीय सैनिकों पर पत्थरों की घात हो रही है उनपर FIR की जा रही है जो सरासर राष्ट्र विरोधी कार्य है |

महेन्द्रपाल आर्य =वैदिकप्रवक्ता =9 =2 =18