कुरान का पर्दा फाश होने लगा है |

|| कुरान का पर्दाफाश होने लगा है ||
प्राय: दुनिया वाले कहते हैं कुरान अल्लाह की कलाम है, मात्र यह कलाम ही नहीं अपितु इस कुरानी वाणी में वह बरकत है वह खूबी है की इस कुरानी आयातों से अनेक अनेक असाध्य रोग भी ठीक हो जाता है |

इन्हीं कुरान की आयातों से अनेक बड़े बड़े अमिल, जो तावीज अदि बनाते हैं अनेक अनहोनी को होनी बना देते हैं या कर दिखाते हैं | यहाँ तक की बड़े से बड़े जीन को भी अपने वश में कर लेते हैं और उस से वह सब काम करा ते हैं जो होना संभव नहीं होता | मात्र इतना ही नहीं इस पर एक फिल्म भी बनी थी शयद, उसका नाम अलाउद्दीन का चिराग था |

इसमें जींन नामी एक सम्प्रोदाय है जिसे अल्लाह ने बनाया है,जिसकी चर्चा कुरान में भी है अल्लाह ने कहा इसबात को,वमा खालाक्तुल जिन्ना वल इंसा | यानि मैंने पैदा किया जिन्न और इन्सान को= यह कहा अल्लाह ने कुरान में |
और इस्लाम जगत के बड़े बड़े आलिमों ने इन्ही जिन्नों को अपने वश में किया हुवा है, उन्हीं से वह सब काम करवाते हैं जो असाध्य है |

कल मेरे पास एक फोन आया इसी विषय पर पूछा मुझसे जी यह कहाँ तक आप इसे सही मानते हैं या नही ? मैंने उसे सीधा उत्तर दिया, की आगर इस्लाम की यह मान्यता है की तावीज बांधने से रोग ठीक हो जाता हैं, जो कुरान की आयात लिखकर देते हैं आदि |

अगर यह सत्य है तो जहाँ यह कुरान उतरी और जिनपर उतरी उन्हें दूसरों से लड़ना क्यों पड्गया क्या इन कुरानी आयातों से एक जगह बैठे बैठे सारा काम नहीं करवालेते ? यह कोरा झूठ है और गलत फहमी भी, अगर कुरान की आयातों से जन्तर मन्त्र या ताबीज से रोग ठीक हो सकती थी अथवा ठीक हो सकता है तो फिर जहाँ यह कुरान नाजिल हुई उस मक्का और मदीना में कोई होस्पिटल या दवाखाना भी नहीं होना चाहिए, कारण इन्ही कुरानी आयातों से रोगों का निदान करवा लेते |

इसी बात को आप इन आतंकवादियों से भी पूछ सकते हैं, की हाफिज सयीद या मौलाना मसूद अजहर यह सब इसी कुरान के माहिर जानकार हैं, बखूबी कुरान को जानते हैं, तो कुरान की आयातों से अगर सभी काम किया कराया जा सकता है तो इन बेचारे को इतनी मुशक्कत क्यों करनी पड रही है ? यह कुरान की आयातों से अपना भारत को या कश्मीर को पाकिस्तान क्यों नहीं बना पा रहे हैं, जिसके लिए आये दिन लोगों के जान ले रहे हैं और दे भी रहे हैं यह क्यों फिर सच क्या है ?

अर्थात कुरान के सन्दर्भ में यह सभी अफवाहें हैं झूठा प्रचार है लोगों को भयभीत करने की यह आसान तरीका है | कुरान में सूरा बकर की एक आयत की बड़ी चर्चा है कुरान में जिसे लोग अयातुल कुर्सी के नाम से कहते हैं जानते और मानते हैं जो आयात न० 255 है इसके सन्दर्भ में अनेक बड़ी बड़ी बातें इस्लाम जगत के लोग बताते हैं और सच मानते हैं की इस आयत को पडकर फुक मारने से जितनी समस्या हैं सब हल हो जाता है |

अब सवाल यह पैदा होता है की अगर यह सच है तो यह आतंकवादी इतना जान किस लिए गवां रहे हैं कुरान की इन अयातल कुर्सी से काम क्यों नहीं लेते, ? इससे कुरान का पर्दाफाश हो रहा है की यह सभी गलत धारणाएं है |
दुनिया वालों को इसे समझना चाहिए और सत्य को अपने जीवन में उतारना चाहिए | धन्यवाद के साथ =महेन्द्र पाल आर्य =19 /3/ 19 =प्रात: 7/ 57 =