|| कोरोना ने मंदिर मस्जिद में ताला डलवा ही दिया ||

|| कोरोना ने मंदिर मस्जिद में ताला डलवा ही दिया ||

कुरान कपोल कल्पित है इसका जीता जागता प्रमाण,जो आज सम्पूर्ण विश्वके सामने उजागर हो गया ||

 

इस सत्यता को देखकर अगर मानव कहलाने वालों का आँख न खुले तो मानवता की रक्षा कौन करे भला ?

 

जो इस्लाम वाले दम भरते हैं अपने अल्लाह का और बड़े गर्व से यह भी कहते हैं -अल्लाह ही सब कुछ करने वाला है – और वही अल्लाह डर गया चाइना आइटम कोरोना वायरस से | और मक्का और मदीना जहाँ इस्लाम का जन्म हुवा उसी जगह के मस्जिदों में नमाजियों पर प्रतिबन्ध लग गया |

 

वाह रे अल्लाह और तेरे चाहने वाले अल्लाह वालो, और अल्लाह की कलाम कुरान यह सब झूठा प्रमाणित होने लगा है | जिस कुरान में अल्लाह ने दावा किया की मैं ईमनादों के साथ हूँ गैर ईमानों के साथ नहीं | और उन्हीं ईमानदारों को अल्लाह ने अपना घर मस्जिद में जाने से ही अल्लाह वालों को रोक दिया |

 

वाह रे चीन और यह तेरा कोरोना वायरस = आखिर तूने दिखा ही दिया की अल्लाह ने अपनी कुरान में मिथ्या बकवास किया है | की मैं ही हूँ मुसलमानों का रखवाला -और ईमानदारों का हमदर्द – यह झूठ इस लिए भी है की चीन ने पहले इस्लाम पर प्रतिबन्ध लगा दिया की इस्लाम चीन में चलने वाला नहीं है |

और कुरान पर इस्लामी तौर तरीकों पर प्रतिबन्ध लगा दिया – कुरान नहीं पढ़ सकते -इस्लामी नाम नहीं रख सकते – नमाज नहीं पढ़ सकते – रोजा नहीं रख सकते – दाढ़ी नहीं रख सकते आदि | अर्थात कोई भी इस्लामी गतिविधि इस्लाम की नहीं चलेगी | इसपर किसी भी इस्लामी देश नेअपनी जुबान नहीं खोली, और चीन ने सब की जुबान बन्द करवा दिया |

अब इस चीन के वायरस ने अल्लाह की घर मस्जिद में भी जाने से मुसलमानों को रुकवा दिया = यह है इस्लाम के असत्य है का प्रमाण, कुरान कपोल कल्पित है इसका जीता जागता प्रमाण |

 

इधर मन्दिर वालों को भी बता दिया चीन के कोरोना ने की तुम्हारी मन्दिरों में बैठी देवी तेवता भी ढकोसला और मिथ्या है देखो तुम्हें मन्दिरों में जाने पर भी मनाही हो गई |

 

जिन मन्दिरों के देवी और देवता को अपने रक्षक मानते हो वह भी अपने यहाँ मन्दिरों में जाने से रोक लगा दी – और यह साफ साफ बता दिया की तुम हिन्दू मुर्ख हो जो मूर्ति को अपना रक्षा करने वाला मानते हो उन्हों ने हाथ खड़ा कर दिया तुम्हारी रक्षा करने से |

 

हिन्दुओं कब आये गी तुम्हारी अकल ? क्या तुम अपने को अकलमंद कहलाने के लायेक हो ? जब राम मन्दिर टुटा -कृष्ण जन्म भूमि की मंदिर टूटी -काशी विश्वनाथ मन्दिर के आधे में मस्जिद बन गई इसे देखकर भी तुम्हारी अकल नहीं आई- और आज भी उन मन्दिरों में बैठी मूर्तियों को अपना रक्षक मानते हो अब तो चीन से फैली कोरोना वायरस ने प्रमाणित कर दिखाया – की यह देवी देवता तुम्हारे झूठे हैं – यह तुम्हारे रक्षक नहीं और न यह तुम्हारी रक्षा कर सकती है इस सत्यता को जानो तभी मानव कहला सकते हो |

 

एक देश चीन ने ही तुम मन्दिर और मस्जिद वालों को दिखा दिया की तुमलोग मन्दिर मस्जिद गिरजा गुरद्वारे वाले सब के सब मानवता के दुश्मन हो मानव समाज को ठगने में लगे हो मन्दिर मस्जिफ के नाम | अब भी छोडो इस मानवता विरोधी कार्य को |

महेन्द्रपाल आर्य = 19 /3/ 2020