जय श्रीराम कहना पाप नहीं है |

|| जय श्रीराम कहना पाप नहीं है ||
यह शब्द अभिवादन में प्रयोग नहीं होता, यह शब्द है श्रीराम जी की मर्यादा में उनकी जय हो यह दर्शाता है |

किन्तु यह शब्द बंगाल प्रान्त में कहना पाप समझा जा रहा है, क्या बंगाल के लोग श्रीराम की जय ना कहकर रावण का जय कहना चाहते हैं ?
क्या यह पश्च्चिम बंगाल अरब देश बन गया ? जब की मुस्लिम देशों में इंडोनेशिया जैसे मुस्लिम देश में जनता से लेकर वहां की सरकार भी जय श्री राम कहने में देर नहीं लगाते |

क्या इस बंगाल प्रांत को भारत से बाहर का हिस्सा माना जाय दुखद स्थिती है, क्या बंगाल प्रान्त में कोई जय श्रीराम कहने पर खुद मुख्य मंत्री उसे अपनी गाड़ी से उतर कर उन बच्चों को पकड़ ने को जाय और पुलिस को आदेश दे उन्हें पकड़ कर जेल डाला जाय ? यह कैसी मानसिकता है ईश्वर जानें ?

अभी तो 23 /5 / के लिए क्या दशा होना है वह तो परमात्मा ही जानें, जब की यही मुख्य मंत्री जी खुद देवी देवताओं का नाम ले ले कर जय कारा लगा रही हैं जनसभा में | यह कैसा चरित्र है की खुद तो देवी देवता के नाम से जयकारा लगा रही हैं, और दूसरा कोई राम की जय हो कहे तो पाप है ? वह दण्ड के भागी हैं ?

माननीया मुख्य मंत्री जी कानून पढ़ी हैं बताया जाता है क्या हमारे भारत वर्ष में कोई अलग और नया कानून बनाया गया है जो इन्हें पढाया गया ? यह तो बेचारी अपने आप में कानून की धजियाँ उड़ाने में लगी है |

एक विडिओ उनका मैं youtube में देख रहा था वह खुद कह रही हैं की यह सब लोग तहलका के मुखिया हैं, मैं ही हूँ जो इन्हें छोड़ रखी हूँ | यह बेचारी कानून को सही ढंग से नहीं पढ़ी होगी कारण आप प्रान्त के मालिक हैं और आप को पता हैं की दोषी कौन है चाहे वे तहलका वाला हो या शारदा वाला हो ? अगर आप को पता है यह दोषी हैं तो उसे छोड़े रखना दोषी को प्रोत्साहित करना नहीं है ?

पता नहीं यार यह कैसा कानून के जानकार हैं माना जाय इन्हें बहुत ही दुखद विषय है अगर बंगाल के लोग इस पर चिन्तन नहीं करते हैं तो आने वाला समय इसी बंगाल को और बहुत कुछ खोना पड़ेगा | क्या हमारे बंगाल के लोग सब राम विरोधी हो गये हैं ?