दुनिया वालें भी समझे कुरान क्या कहता है ?

दुनिया वाले भी समझें कुरान क्या कहता है ?

आप लोगों को बहुत दिनों से मैं बताता आ रहा हूँ की कुरान क्लामुल्लाह नहीं हो सकता | और तह प्रमाण आर्य समाज के जन्मदाता ऋषि देव दयानन्द द्वारा दिनिया वालों को मिला है | दुनियाके लोग इस भेद को जानते नहीं थे जिसे ऋषि ने खोला है |

आप लोगों ने भी देखा होगा सत्यार्थ प्रकास जो ऋषि की एक प्रमाणिक पुस्तक है, इस के 14 समुल्लास में कुरान विषय पर उन्हों ने चर्चा करते हुए ही लिखा कुरान का बिसमिल्लाह हिररहमा, निररहीम जो इसका पहला वाक्य है वह गलत है | कुरान का कलामुल्लाह होना सम्भव नहीं, कुरान से ही प्रमाणित किया है |

इसपर मैंने भी काम किया है इसी पर इस्लाम जगत के जानकारों से डिबेट भी किया हूँ, अलिगड़ मुस्लिम विश्व विद्यालय के प्रोफेसर डॉ० तारिक मुर्तुजा से, और भी कई विद्वानों से, इन लोगों के पास जवाब ही नहीं है | और ना यह जवाब दे सकते हैं कयामत तक |
नीचे जो फोटो लगा है यह है कुरान का सूरा 4 अननिसा =आयात 1 है =आप लोग गौर से पढेंगे कुरान के इस सूरा को, यह सूरा आराम्भ्व हुवा है बिसमिल्ला से ही इसलाम के मानने वालों के पास इससे भागने के लिए कोई रास्ता ही नहीं बचा है | इस प्रकार और भी प्रमाण कुरान में मौजूद है |

यहाँ बीस मिल्लाहिर रहमा निररहीम से आरम्भ हो कर =इन्नाल्लाहा काना यलैकुम रकिबा {1 } आयात है इसी कुरान में लिखा है | अतः कोई यह कहे की यह शब्द कुरान का नहीं है उसे कुरान की जानकारी नहीं है |

एक बात बहुत ही अचम्भित करने वाली है की अल्लाह ने आदम को बनाया उसके बाद, उसी आदम की पत्नी को अल्लाह ने आदम की बाएँ पसली की हडडी से बनाया लिया है | जब की कुरान एक बात पर टिकी नहीं है ,मानव बनाने की बात 5 जगह अलग अलग ही बताया है इसी कुरान में |

अब सवाल खड़ा होता है की आखिर अल्लाह को औरत बनाना नहीं आता क्या जो पुरुष बनाकर उसकी हडडी निकलना पड़ गया, क्या एक हडडी से महिला का बनजाना सम्भव है ? आदम को बनाया मिटटी से बताया है अल्लाह ने, जब की मानव बना है पञ्च तत्व से = 1 =आकाश =2 =जल =3 =अग्नि =४ वायु = 5 = मिटटी = यह पांच को अल्लाह जनता भी नहीं है |

इस लिए कुरान ईश्वरीय ज्ञान नहीं हो सकता | यह अल्लाह का कलाम भले ही इस्लाम वाले इसे मानें किन्तु ईश्वरीय ज्ञान नहीं है | मैंने दो फोटो लगाये हैं कुरान के भाष्य तफसीरे इबने कसीर के पेज 621 का है इस में स्पष्ट लिखा है जो जो प्रमाण मैंने दिया है | उर्दू जानने वाले इसे पढ़ें और सत्य को जाननें | धन्यवाद के साथ महेन्द्रपाल आर्य = 17 /3 /19 =सुबह =8-22 मिनट पर |निसा 2