संस्कृत या हिंदी जुबान में अल्लाह ने किस पैगम्बर को भेजा ?

संस्कृत या हिंदी जुबान में अल्लाह ने किस पैगम्बर को भेजा ?

अल्लाह ने अपनी कुरानी अरबी जुबान में बताया की हमने जब कभी कोई पैगम्बर भेजा तो उसकी कौम की जुबान में बातें करता हुवा, ताकि उसके सामने हमारे एहकाम बयाँ करसके | अगला शब्द बताया की यही अल्लाह जिसे चाहे गुमराही में छोड़ देता है, और जिसे चाहता है हिदायत करता है |

नोट:- अल्लाह की मनमानी देखें जब की साधारण मानव भी किसी को पथभ्रष्ट नहीं करता उसे अच्छा आदमी या अच्छा इन्सान नहीं कहा जायगा यहाँ अल्लाह ही लोगों को गुमराह करता है | दुनुया के लोग सुनकर विचार करें की वह अल्लाह, क्या परमात्मा का मुकाबला कर सकता है ? जो परमात्मा का स्वाभाविक गुण है प्राणी मात्र का कल्याण करना |

अब प्रशन है की मानव जन्म लेकर कौनसा जुबान बोलता है ? अरबी, फारसी, उर्दू, इंग्लिश, हिंदी, संस्कृत ? यद्यपि आज पुरे विश्व में चार {4०००} हज़ार करीब भाषाएँ हैं |

सृष्टि नियम अनुसार मानव जब धरती पर आता है तो उसकी जुबान खुलते ही यही आवाज़ निकलती है | अ,आ,उ,ऊ,इ,ई |  उसकी रोने हँसने चिल्लाने पुकार ने की आवाज़ यही होगी अन्य किसी भी जुबान में आवाज़ नहीं निकलेगी | अब प्रशन है की यह आवाज़ सिर्फ मात्र  संस्कृत को छोड़ और कि\सी भी जुबान में नहीं है ? आज धरती पर जितने भी जुबान हैं मानव समाज में यह आवाज़ एक संस्कृत में ही है कहीं और नहीं है |

जब अल्लाह ने अरबी में कहा हर जुबान में मैंने पैगम्बर भेजा है, तो जो आदि सृष्टि से मानव मात्र की जो जुबान है उस जुबान में अल्लाह ने किस पैगम्बर को भेजा ?

अगर हम संस्कृत को छोड़ भी देते हैं तो संस्कृत से निकली हिन्दू जुबान है इस हिंदी जुबान में अल्लाह ने किन पैगम्बर को भेजा ?

धरती पर सम्पूर्ण इसलाम वालों से अरबी कुरान के मानने वालों से मेरा यह सवाल है की अल्लाह का कहना सत्य है तो इस्लाम के जानकार जरा बताएं की मैं जो प्रमाण दे रहा हूँ वह सत्य है अथवा कुरान में अल्लाह ने जो कहा वह सत्य है ?

وَمَا أَرْسَلْنَا مِن رَّسُولٍ إِلَّا بِلِسَانِ قَوْمِهِ لِيُبَيِّنَ لَهُمْ ۖ فَيُضِلُّ اللَّهُ مَن يَشَاءُ وَيَهْدِي مَن يَشَاءُ ۚ وَهُوَ الْعَزِيزُ الْحَكِيمُ [١٤:٤]

और हमने जब कभी कोई पैग़म्बर भेजा तो उसकी क़ौम की ज़बान में बातें करता हुआ (ताकि उसके सामने (हमारे एहक़ाम) बयान कर सके तो यही ख़ुदा जिसे चाहता है गुमराही में छोड़ देता है और जिस की चाहता है हिदायत करता है वही सब पर ग़ालिब हिकमत वाला है | सूरा इब्राहीम =4

 

कुरान का यह कहना किस प्रकार सत्य है इसे इस्लाम के जान्ने व मानने वाले सिद्ध करें, जब की इस्लाम में संस्कृत अथवा हिंदी जुबान में किसी भी मुसलमान का नाम तक रखने को इस्लाम में अनुमति नहीं है फिर अल्लाह का यह कहना क्योंकर सही माना जाय ?

महेन्द्र पाल आर्य = 24 =6 =18 =