सेवा निवृत जजों से जयादा कानून जानती हैं मुस्लिम महिलाएं ?

सेवानिवृत जजों से ज्यादा कानून जानती हैं मुस्लिम महिलाएं ?
कल कई न्यूज़ चेनलों में देखा हमारे भारत के कई सेवा निवृतजज,और सेवानिवृत बड़े बड़े पदों में रहे कई अधिकारी महामहिम राष्ट्रपति जी को एक ज्ञापन सोंपा है जिसमें भारत भर यत्र तत्र नागरिकता कानून के विरोध कररहे लोगों को रोकने और उन्हें दण्डित करने की बात कही गई है |
मेरा सवाल उन मुस्लिम महिलायों से है और उन्हें इंधन जूगाने वालोंसे उन्हें प्रोत्साहित करने वालों से है – चाहे वह कांग्रेसी नेता हो और कम्युनिष्ट नेता हों और मुस्लमान कहलाने वाले कितना ही बड़ा आलिम अपने को बताएं, सबसे है – क्या यह लोग कानून जानते हैं, या जिन जजों ने अपना अधिकतर समय लोगों को न्याय दिलाने में लगायें हैं उन्हें ज्यादा कानून की जानकारी है ?
यह भारत का दुर्भाग्य ही कहा जायगा जो इस तरीके से भारत सरकार को अस्थिरता में डाल दिया है, और जान बुझकर BJP सरकार को परेशां करने की साजिश इन लोगों की है – केवल सरकार को बदनाम करने के लिए ही यह सोची समझी चाल है इन लोगों का |
इसका मूल कारण है सम्पूर्ण विश्व वासियों ने देखा है की अभी लोकसभा चुनाव में भारत भर के सभी राजनितिक पार्टियों ने बीजेपी को हराने के लिए कितना प्रयास किया |
 
कश्मीर से लेकर बंगाल तक के सभी नेता एक मंचपर होकर प्रतिज्ञा किया किसी भी प्रकार मोदी को हराना है | पर देश वासियों ने सबको किनारे लगाकर मोदी को आगे किया और भीषण बहुमत से सरकार बनाने का अवसर दिया | उसके बाद जो हुवा तीन तलाक – 370 -35 A –और राममंदिर को चुटकी में पासकरा दिया सुप्रीमकोर्ट से – दुनिया के लोग देखते रहगये | अब यह नागरिकता संशोधन कानून लाया तो, कुछ नेता कौवे की बोली बोलने लगे, का,का, छि, छि –करने पे उतारू होगये – मेरा सवाल उन्ही नेताओं से है क्या यह नेता गण उन रिटायर जजों से ज्यादा कानून जानते हैं क्या ?
 
उ० प्र० के योगी सरकार जैसे भारत सरकार को चाहिए की इन प्रदर्शनकारियों पर सख्ती वरते, यह मैं निरन्तर बोल रहा हूँ – ओवैसीब्रादर से लेकर इन सड़क छाप मुस्लिम महिलाओं को और उनके सभी रहनुमाओं को उसी जगह भेज दें जहाँ उनकी असली ठिकाना है |
महेन्द्रपाल आर्य 25/1/20 =