articles

articles

यह है हमारे देश के नेता | क्या धर्म को छोड़ राजनीति संभव है ? धर्म राजनैतिक का एक अंग है? जी हाँ न्याय करना ही धर्म है। तो क्या

यह है हमारे देश के नेता | क्या धर्म को छोड़ राजनीति संभव है ? धर्म राजनैतिक का एक अंग है? जी हाँ न्याय करना ही धर्म है। तो क्या

|| हमारे देश में, अपुज्यों की पूजा, व, पूजनीय त्रिषकृत || मोदी जी प्रधान मंत्री बने तब केजरीवाल व कई लोग पूछने लगे कितने पढ़ेंलिखे हैं यह सवाल राबड़ी जी

न लिङ्गम धर्म कारणम् = धर्मके लिए बाहरी चिहिंन की कोई भी ज़रूरत नही धर्म दिखाने के लिए नही होते,धर्म क्या है जानने का विषय है,मानने का नहीं ।  

यह भाई भतीजा और परिवार वाद समाप्त होना चाहिए || भारत से यह भाई भतीजा व परिवारवाद की राजनीती खत्म नही हो सकती कोई कानून बनना उचित नहीं की एक

हम तलाक प्रकरण व औरतों को कुरान में देखें | وَلَا تَنكِحُوا الْمُشْرِكَاتِ حَتَّىٰ يُؤْمِنَّ ۚ وَلَأَمَةٌ مُّؤْمِنَةٌ خَيْرٌ مِّن مُّشْرِكَةٍ وَلَوْ أَعْجَبَتْكُمْ ۗ وَلَا تُنكِحُوا الْمُشْرِكِينَ حَتَّىٰ يُؤْمِنُوا ۚ وَلَعَبْدٌ مُّؤْمِنٌ خَيْرٌ

धर्म को लोगों ने जाना ही नही | धर्म किसी व्यक्ति के बनाये नहीं,सूर्य धरती आकाश सागर नदियां जैसा ईश्वर अधीन है ठीक धर्म भी वैसा ही है | ईसाई,इस्लाम,जैनी

धर्मपर आचरण करने वालों का नाम मानव है कोई पशु धर्म नही जानता और ना पशु के लिए धर्म है,मानव ही धर्मपर आचरण करता है ,माँ को माँ कहना ही

भारत के नेता गण अपना अपना,विचार दे रहे हैं पत्रकार सम्मेलन बुला कर या फिर tv चेनलों के माध्यम से वह विचार दिया जा रहा है  हमारे भारतीय सुप्रीमकोर्ट ने

देशका कुछ नही बिगाड़ा दुश्मनों की तलवारों ने | भारत को बर्बाद किया है भारत के ही गद्दारों नें || सम्पूर्ण जगत में जितने भी देश तथा {मुल्क} है, किसी