RSS का इतिहास पढ़ें या आर्य समाज का ?

RSS का इतिहास पढ़ें या आर्य समाज का ?
19 के दशक में बनी संगठन का इतिहास को पढ़ाया जाय या 1875 में बनी संगठन की जानकारी ज़रूरी है ? वह भी देश की आज़ादी के बारें में बताया जा रहा है की RSS ने आज़ादी के लिए क्या कार्य किया ? आज एक सच्चाई आप लोगों को बताना चाहता हूँ वे यह है की आर्यसमाज का जो कार्य है उसके एक रत्ती बराबर कार्य RSS का नहीं है | समय समय पर अनेक लेखकों और गवेशकों ने इसकी जानकारी दी है जो इतिहास स्वर्णिम अक्षरों में लिखा है, ऋषि दयानंद और उनके के तीन गुरुओं के नाम भारतीय इतिहास में लिखा है |
सही पूछें तो भारत में अगर हिन्दुओं को बचा और जिला रखा है जो संगठन उसी संगठन का नाम ही आर्य समाज है | दुर्भाग्य वश आज उस संगठन का इतिहास को ना पढ़ा कर RSS का इतिहास लागु किया गया नाग पुर विश्वविद्यालय में,जो बिलकुल मानने योग्य नहीं है | इस हिन्दू संगठन को जिलाने वाली संगठन का नाम है आर्य समाज | भारत में आज जितने भी मुसलमान और ईसाई रहते हैं वह सभी हिन्दू से ही बने है | कोई चार पीढ़ी पहले तो कोई दो पीढ़ी पहले | मुसलमान इस देश के मूल नहीं हैं और ना ईसाई इसदेश के मूल निवासी है |
यह दोनों मत वाले या पंथ वाले अरब के हैं और एक इंग्लॅण्ड के हैं | प्रमाण सबसे बड़ा यह है की यह दोनों विदेशी होने का, की यह दोनों सम्प्रोदाय की मान्यता भी विदेशी है | भारत का एक भी उत्सव तेहवार यह दोनों कौम के लोग नहीं मनाते | सुबह से शाम तक जितना जो कुछ भी इनका धार्मिक कार्य होता है वह सारा कार्य विदेश के है | इसपर RSS संगठन ने एक बार भी बोला हो तो बताएं ? इसपर बोलना ही नहीं इसका विरोध भारत वर्ष में अगर किसी संगठन ने किया है तो उस संगठन का नाम ही आर्य समाज है |
आर्य समाज जन्म काल से इसका विरोध किया की आप रहते भारत में हो और विदेशी तेहवर को मनाते हो वह किसलिए ? RSS वालों ने यह बात कभी कही हो तो दिखाएँ अपना इतिहास ? आर्य समाज जन्मकाल से राष्ट्र और राष्ट्रीयता को जीवनका आधार सिर्फ माना ही नहीं अपितु इसे चरितार्थ भी किया है | विशेष कर आज भारत भर जितने हिन्दू कहलाने वाले हैं उन्हें अगर हिंदुत्व का बोध भी किसी संगठन ने करायी हो उस संगठन का नाम ही आर्य समाज है | इस सत्यता को अगर तिलांजली दे कर अथवा अछुता समझकर किनारे करते हुए, अगर हिन्दू संगठन RSS का इतिहास पढाया जाय तो यह आर्य समाज ही नहीं अपितु इस महाँन आर्यावर्त देश के साथ अथवा इस राष्ट्र के साथ विश्वास घात ही है | ऋषि दयानंद जी का जो योगदान है उसे भुलाने का प्रयास ही है इन हिन्दू कहलाने वाली संगठन का सच्चाई यही है | इसका भी मूल कारण है आर्य समाज विश्य्द्ध एकेश्वरवाद, वेद,और वेद में मूर्ति पूजा नहीं है इसका प्रचार करता है जो इन हिन्दू कहलाने वालों और हिन्दू संगठन को पसंद है |
यही कारण है की 1875 में बनी संगठन जो मात्र इस राष्ट्र और राष्ट्रीयता को उजागर करने में लगी रही उसे समर्थन देने या करने के बजाय इसके विरोध में यही संगठन को जन्म दिया जिसका नाम RSS है | मैं आप लोगों को आर्य समाज की कृयाकलाप और इस संगठन के किये कार्य की जानकारी बीच बीच में देता रहूँगा |
दर असल बात यह है की आर्य समाज ने राजनिती में अपना कोई पार्टी बनाकर काम नही किया | अगर यह उस समय कोई राजनिती पार्टी बनाकर काम करते तो अन्यों को सामने आने की हिम्मत ही ना होती | आर्य समाजियों ने अपनी पार्टी ना बनाकर भारत में बनी और राजनिती पार्टियों को समर्थन दिया, जिसका परिणाम आज सब के सामने हैं | प्रमाण के लिए =मोहनदास करमचंद गाँधी के राजनीति गुरु का नाम गोपाल कृष्ण गोखले | गोपाल कृष्ण गोखले के राजनितिक गुरु थे महा देव गोविन्द रानाडे | और महादेव गोविन्दरानाडे के राजनीति गुरुका नाम महर्षिनन्द सरस्वती | {जो आर्यसमाज के संस्थापक थे }
इसी एक प्रमाण से जान सकते हैं आर्यसमाज का योगदान इस राष्ट्र के लिए क्या है ? तो उस समय आर्यों की कोई पार्टी नहीं थी पर आज इन दकियानूसी विचारों से आर्य लोग परेशान हैं | जैसे जिन मदरसों में बच्चों के हाथ हथियार पकडाया जा रहा है और यह सरकारी पुलिस ही पकड़ रही है, उसे उजागर कर रही है | और वही सरकार उन्ही मदरसों में लाखों और करोड़ों अनुदान दें, जिन पैसों से वे हथियार खरीदें, क्या यह सही हो रहा है ?
अब आर्य लोगों की पार्टी बनी है जिस पार्टी का नाम राष्ट्र निर्माण पार्टी आप भारत वासियों से प्रार्थना है की एस राष्ट्र को सभी अराजक तत्व से बचाने के लिए एक मात्र यही पार्टी है | बाकि सब को आप लोग देख भी रहे हैं और सुन भी रहे हैं | इस पार्टी का मैं राष्ट्रिय प्रचारमंत्री होने हेतु यथार्थ बातों को आप लोगों के सामने रखा | और आप लोगों से अपील भी कर रहा हूँ की अगर इस राष्ट्र को बचाना है तो इस राष्ट्र निर्माण पार्टी का सदस्य बनें और राष्ट्र को बनाने में सहयोग करें = सदस्यता के लिए 9911500369 पहलवान धर्मवीर जी से सम्पर्क करें | महेन्द्रपाल आर्य =राष्ट्रिय प्रवक्ता राष्ट्र निर्माण पार्टी |