|| सुप्रीमकोर्ट का आदेश ना माने, वह भारतीय कैसा ? 14/ 9/17`=शाम 7 बजे बहस देख रहा था एक मियाँ जी अब्दुर्रहमान आबिद नामसे थे, मैं मुख्य रूपसे उनकी चर्चा

|| मानव को सत्य से हटाया मत,पन्थ,के विचारों ने || मानव परमात्मा की सृष्टि के एक अनुखी रचना है, जिसे उत्कृष्ट प्राणी कहलाने का सौभाग्य प्राप्त हुवा, जिसका मूल कारण

|| सुप्रीमकोर्ट का आदेश मानो,वरना नागरिकता छोड़ो || जिनत को तीन तलाक मिलने के बाद PM को लिखी पत्र, इसका विरोध करना है तो,इस इस्लामको त्यागकर करना चाहिए, इसे रोकने

क्या हम ने सत्य को कभी जाना है ? हम भारत वासियों ने सत्य को स्वीकार ही कहाँ किया ? हमें जो पाठ गलत पढाया गया आज तक उसी को


The Posts

कुरान का इंशाल्लाह शब्द सही नहीं, फिर भारत को इस्लामिस्तान क्यों नहीं बना पाए ?

कहना किसका सत्य है अल्लाह का या फिर मुसलमानों का ?

व्यक्ति पूजा का नाम इस्लाम है, उन्ही के आलिमों से सुनिए, और मेरा जवाब भी |

अल्लाह का कहना क्या है दुनिया वाले भी सुनें ||

तर्क के कसौटी पर अल्लाह,और अल्लाह वाले नहीं आ सकते |

तर्क के सामने अल्लाह भी निरुत्तर

अल्लाह ने कहा कुरान का नक़ल नही बना सकते =इसी कुरान का नकल सुनिये |

मौलाना अब्दुर रज्जाक से फोन पर वार्ता ,इनलोगों के पास जवाब ही नहीं है |

मौलाना अब्दुर रज्जाक से वार्ता फोनपर

कुरान कला मुल्ला नहीं है प्रमाण तफसीरे इबने कसीर से |

Website Hits: 9758