आज विशेष कर भारत वर्ष में,कई वर्षोंसे, कुछ आतंकवादी संगठनों द्वारा यत्र तत्र,हमला हो रहा उसका मुख्य कारण ही धर्म है | इसबात को कोई मानें या न मानें इसे

ऋषि दयानंद जी ने अपने अमर ग्रन्थ सत्यार्थ प्रकाश के अंत में, स्वमत्वव्यामन्तव्यप्रकाश प्रकरण में धर्म और अधर्म को समझाते हुए लिखते है : “धर्माधर्म” जो पक्षपातरहित, न्यायाचरण, सत्यभाषादियुक्त ईश्वराज्ञा,


The Posts

कुरान का इंशाल्लाह शब्द सही नहीं, फिर भारत को इस्लामिस्तान क्यों नहीं बना पाए ?

कहना किसका सत्य है अल्लाह का या फिर मुसलमानों का ?

व्यक्ति पूजा का नाम इस्लाम है, उन्ही के आलिमों से सुनिए, और मेरा जवाब भी |

अल्लाह का कहना क्या है दुनिया वाले भी सुनें ||

तर्क के कसौटी पर अल्लाह,और अल्लाह वाले नहीं आ सकते |

तर्क के सामने अल्लाह भी निरुत्तर

अल्लाह ने कहा कुरान का नक़ल नही बना सकते =इसी कुरान का नकल सुनिये |

मौलाना अब्दुर रज्जाक से फोन पर वार्ता ,इनलोगों के पास जवाब ही नहीं है |

मौलाना अब्दुर रज्जाक से वार्ता फोनपर

कुरान कला मुल्ला नहीं है प्रमाण तफसीरे इबने कसीर से |

Website Hits: 9836