सृष्टि के प्रथम से ही अनेकों महापुरुषों का आगमन हुवा अनेकों ऋषि महर्षि, और ऋषिकायें इसी धरती पर आयें, अनेकों मुनियों का भी आगमन हुवा,फिर महा पुरुष भी आयें,सबने मानवता

हम भारत वासियों ने सत्य को स्वीकार ही कहाँ किया ? हमें जो पाठगलत पढाया गया आज तक उसी को हम रटे जारहे हैं, उसे सुधार ने का प्रयास कभी


The Posts

कुरान का इंशाल्लाह शब्द सही नहीं, फिर भारत को इस्लामिस्तान क्यों नहीं बना पाए ?

कहना किसका सत्य है अल्लाह का या फिर मुसलमानों का ?

व्यक्ति पूजा का नाम इस्लाम है, उन्ही के आलिमों से सुनिए, और मेरा जवाब भी |

अल्लाह का कहना क्या है दुनिया वाले भी सुनें ||

तर्क के कसौटी पर अल्लाह,और अल्लाह वाले नहीं आ सकते |

तर्क के सामने अल्लाह भी निरुत्तर

अल्लाह ने कहा कुरान का नक़ल नही बना सकते =इसी कुरान का नकल सुनिये |

मौलाना अब्दुर रज्जाक से फोन पर वार्ता ,इनलोगों के पास जवाब ही नहीं है |

मौलाना अब्दुर रज्जाक से वार्ता फोनपर

कुरान कला मुल्ला नहीं है प्रमाण तफसीरे इबने कसीर से |

Website Hits: 9727