यह कैसे बेवफा नेता हैं ? कहाँ गये वह नेता गण जो नोटबन्दी के विरोध कोलकाता, दिल्ली, लखनऊ, पटना, घूमकर भारतियों का हिमायती और लोकप्रिय बनने की महत्वाकांछा लिए,केजरीवाल,अखिलेश,और नितीश

|| उ०प्र० का चुनाव बीजेपी के लिए मर्यादा की लड़ाई थी || हमारे देश वासी आज तक नहीं समझ रहे है, की देश हित में काम करने वाली कौन सी

ऋषि दयानन्द की मान्यता है सत्य बोलना, औरों से बुलवाना , असत्य छोड़ना, औरों से भी छुड़वाना | इस कार्य को करने में कितना ही दारुण कष्ट भी सहना पड़े