ईश्वर और अल्लाह के गुण अलग है तो दोनों एक कैसे ? भाग 2

https://youtu.be/z-U4AAGsWbU यह भाग 2 है |
 
यह कह रहा है वाटर को पानी कहें तो पानी पानी रहेगा | अर्थात पानी का गुण नहीं बदलेगा |
किन्तु ईश्वर को अल्लाह कहने पर उसका गुण बदलेगा | प्रमाण नीचे दिया है बोला भी है |
 
ईश्वर और अल्लाह को एक बताना मुर्खता से खाली नहीं | विचार करें की ईश्वर अल्लाह दोनों एक क्यों नहीं ? कारण ईश्वर और अल्लाह में एक गुण नहीं है फिर एक होना क्यों और कैसे सम्भव है ?
 
जो अल्लाह 6 दिनों में दुनिया बनाकर आसमान पर जा बैठे, यह शारीर धारी का होना है बैठना | यह अवगुण ईश्वर में कहाँ है ?
अल्लाह बिन शादी वाली लड़की में फूंकमारकर संतान बनादे, यह अवगुण ईश्वर में कहाँ है ? बाँझ महिला को संतान दे – यह अवगुण ईश्वर में कहाँ है ?
अल्साह आसमान से खाना भेजे यह अवगुण ईश्लर में कहां है ? वभी प्रमाण इस विडिओ में दिया गया है आप लोग सुनें ध्यान से |