मुह बोले बेटे की तलक शुदा पत्नी से निकाह कराने वाला ईश्वर नहीं हो सकता

मानव मात्र का लक्ष्य ईश्वर सानिध्य, अब ईश्वर को बिने जाने उसका सानिध्य लाभ करना संभव नहीं | वह ईश्वर नहीं हो सकता जो किसी के पारिवारिक झगड़े मिटाए – अपनी बातों को प्रमाणित करने के लिए ईश्वर नहीं कह सकता की तुम चार गवाही ले आव, और अगर चार गवाह न मिले तो अल्लाह की कसम खा कर कहो तो अलबत्ता सच्चा मन जायगा | यह कहने वाला ईश्वर नहीं हो सकता | इसे कहने वाले अल्लाह तो हैं किन्तु ईश्वर नहीं |