भारत में दूसरा जाकिर नाईक तैयार IREF के नाम से |

धर्म प्रेमी बंधुओं आप के भारत में फिर दूसरा जाकिर तैयार हो गया | जाकिर का IRF था इसका है IREF इसने जो बिला है वेड में मूर्ति पूजा नहीं है |

बिलकुल सत्य और ठीक बात है = पर यह कुरान से क्या बताना चाहता है अगर यह काहे की कुरान में मूर्ति पूजा नहीं है ? पर यह बात सत्य नहीं है की इस्लाम एकेश्वरवादी है मैं कई बार बोल चूका हूँ अल्लाह के साथ मुहम्मद का नाम जुदा है उसे हटाया जाना संभव नहीं फिर अल्लाह का या इस्लाम का मानना पूरा नहीं हो सकता |
तो वेड वाले इसलाम से अथवा कुरान से क्या लेने जायेंगे, जब की वेदों में पहले से एकेश्वर बाद है | जब वेद स्रष्टि के प्रथम से है और उसी में एक ही ईश्वर की बातें हैं जिसकी कोई प्रतिमा नहीं है | तो उसे छोड़ कुरान से वेद के मानने वाले क्या लेने जायेंगे ? यह क्या कह रहा हैं आप लोग भी सुनिए |