लोग अपनी संकीर्णता को जानते नहीं, दुसरे को संकीर्ण बताते हैं =



Website Hits: 7823