सभी मज़हब वाले खुदको सत्य होने का दम भरते हैं, किन्तु सत्य तो एक है, वह किसके पास है ?